Thursday , May 28 2020

WORLD's FASTEST GROWING POSITIVE NEWS PORTAL

Latest
Home / National / ईर्ष्या, घृणा से मुक्त बनें- ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी

ईर्ष्या, घृणा से मुक्त बनें- ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी

युवा दिवस पर युवाओं के लिए संदेश हर  कार्य में उमंग-उत्साह का समावेश हो।

न किसी के लिए समस्या बनेंगे न किसी समस्या में कदम रूकें…

संगठन की मजबूती के लिए एकता व एकाग्रता आवश्यक

बिलासपुर, टिकरापाराः- किसी की प्रगति, उन्नति या उद्धार करने के लिए केवल अच्छी वाणी बोल देना बड़ी बात नहीं है। सबके प्रति शुभभावना रखते हुए अपने गुणों से दूसरों को गुणवान बनाना और आगे बढ़ाना यह है फिराकदिल या उदारदिल बनना। ईर्ष्या, घृणा, क्रिटिसाइज, आलोचना करने या ताने मारने वाला उदारदिल नहीं बन सकता।

कई बार अपने साथ वाले किसी की प्रशंसा होने पर या किसी जूनियर के सीनियर से आगे निकल जाने पर ईर्ष्या की भावना उत्पन्न हो जाती है जो स्वयं को और दूसरों को भी परेशान करती है। क्रोध व ईर्ष्या दोनों अग्नि की तरह हैं, क्रोध महाअग्नि है लेकिन ईर्ष्या ऐसी ज्वाला है जो मन ही मन उत्पन्न होती है इसमें न दवा काम करती, न आग बुझती, बाहर धुंआ भी नहीं निकलता लेकिन अंदर ही अंदर मनुष्य झुलसता जाता है।

घृणा ऐसी विकृति है जो शुभचिंतन करने नहीं देती, न ही शुभचिंतक बनने देती और इस तरह भी है जैसे खुद भी किसी गड्ढे़ में गिरना व दूसरों को भी गिराना। क्रिटिसाइज या आलोचना करना एक प्रकार से चोट पहुंचाने की तरह है यह दूसरों को तब तक याद रहती है जब तक चोट ठीक न हो। कई बार चोट ठीक होने के बाद भी दाग बना रहता है।
ये बातें ब्रह्माकुमारीज़ टिकरापारा सेवाकेन्द्र में आयोजित रविवार स्पेशल क्लास में ब्रह्मवत्सों को परमात्म महावाक्य सुनाते हुए सेवाकेन्द्र प्रभारी ब्रह्माकुमारी मंजू दीदी जी ने कही। आपने आगे कहा कि संगठन में किसी बात को कह देना सरल होता है लेकिन भुलाना मुश्किल होता है इसलिए अपने मुख से ज्ञान रत्न ही निकालने हैं, तोल-तोल कर बोलना है।

संगठन या परिवार की मजबूती के लिए एकता व एकाग्रता आवष्यक है। एकता से ही हर कार्य में सफलता मिलती है।
राष्ट्रीय युवा दिवस पर युवाओं के लिए संदेश सुनाते हुए दीदी ने कहा कि आप जो भी कार्य करते हो उसमें उमंग-उत्साह का समावेश हो।

इसलिए किसी भी कार्य की शुरूआत जब होती है तब दृढ़-संकल्प का धागा या कंगन बांधते हैं जो कि अटल प्रतिज्ञा का प्रतीक होता है।

साथ ही यह स्लोगन भी याद रखें कि न किसी के लिए समस्या बनेंगे न किसी समस्या को देख डगमग होंगे। स्वयं भी समाधान स्वरूप बनेंगे और दूसरों को भी समाधान स्वरूप बनाएंगे।http://tikrapara.bk.ooo/

ब्रह्माकुमारीज महाशिवरात्रि महोत्सव “वो परम पिता मेरा ही पिता है”

Check Also

करोना की लड़ाई में भारत की जीत का प्रकाश

करोना की लड़ाई में भारत की जीत का प्रकाश…. Newsanant:- करोना महामारी के बीच भारत …

Leave a Reply