Thursday , June 4 2020

WORLD's FASTEST GROWING POSITIVE NEWS PORTAL

Latest
Home / Education / ब्रह्माकुमारीज द्वारा “जादू मेरी सोच का” सफल  आयोजन

ब्रह्माकुमारीज द्वारा “जादू मेरी सोच का” सफल  आयोजन

जादू मेरी सोच का session 5
ब्रह्माकुमारीज भिलाई द्वारा आयोजित बच्चों का कार्यक्रम “जादू मेरी सोच का” सफल  आयोजन किया गया|

जिसमें अनेक वरिष्ठ भाइयों एवं बहनों द्वारा बच्चों को नैतिक मूल्यों एवं ज्ञान को जीवन में कैसे धारण करें इस संदर्भ में बताया जिसे बच्चों ने काफी अच्छे से सुना और प्रयोग में लाया | इस प्रोग्राम के अंतर्गत कूल 6 शीर्षक के ऊपर क्लास कराया गया जिसमें से एक था “खुदा दोस्त” जो कि बीके प्रशांत एवं बीके बहन द्वारा कराया गया।।Magic of  My Thoughts – जादू मेरी सोच सेशन संपन्न


बीके प्रशांत ने सर्वप्रथम बच्चों को म्यूजिकल एक्सरसाइज के माध्यम से तन और मन को तंदुरुस्त रखने का राज बताया एवं बताया कि सारे बीमारियों की उत्पत्ति हमारे मन व संकल्प से होती है।।
उसके पश्चात उन्होंने अपना अनुभव सुनाते हुए बताया कि किस तरह इस ज्ञान को सुनते हुए और अपने जीवन में धारण करते हुए और अपने मनोबल व हर एक संकल्प को सही दिशा दिखाते हुए अपने जीवन में पढ़ाई के साथ साथ अन्य कर्मों में सफलता प्राप्त की।।


उन्होंने कहानी के माध्यम से बच्चों को बताया कि आज मनुष्य संसार की भौतिक सुखों मैं ही डूबा हुआ है और अपने वास्तविक स्वरूप को भूल चुका है वह जीवन रूपी वन में भटक गया है और संसार के मायाजाल में गिरकर जीवन काल रूपी रस्सी को पकड़ कर लटका हुआ है जिसे दो चूहे 1दिन और 2रात नष्ट कर रहे हैं और नीचे क्रोध लोभ व मोह रूपी अजगर बैठे हुए है जो उसके संस्कार बनते जा रहे हैं और जब भगवान स्वयं उसे इस मायाजाल से निकालने आया है तब वह इस सांसारिक सुख को ही असली सुख समझ उस खुदा दोस्त से दूर होते जा रहे हैं जिसके कारण मनुष्य को अकेलापन व डिप्रेशन जैसी बीमारियों का शिकार होना पड़ता है और वह गलत कदम उठा लेते है।। लेकिन यदि हम ईश्वर को ही अपना दोस्त बना ले तो जीवन में अनेकानेक फायदे होंगे और सफलता के पीछे आप नहीं बल्कि सफलता आपके पीछे पीछे आएगी |

Check Also

जादू मेरी सोच का प्रोजेक्ट का हुआ भव्य उदघाटन – सोच को सही दिशा दो तो सफलता निश्चित है..

   भिलाई ,1-12-19:-प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के राजयोगा एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के शिक्षा …

Leave a Reply