Tuesday , June 15 2021

WORLD's FASTEST GROWING POSITIVE NEWS PORTAL

Latest
Home / National / Chhattisgarh / चुनौतियों के बिना जीवन नीरस-एक नई सोच की ओर वेब सिरीज़

चुनौतियों के बिना जीवन नीरस-एक नई सोच की ओर वेब सिरीज़

एक नई सोच की ओर …

चुनौतियों के बिना जीवन नीरस हो जाएगा… ब्रह्माकुमारी हर्षा दीदी

 

रायपुर, 25 अगस्त: राजयोग शिक्षिका ब्रह्माकुमारी हर्षा दीदी ने कहा कि चुनौति न हो तो हमारा जीवन नीरस हो जाएगा। यही जीवन की सुन्दरता भी है। महान आत्माओं का जीवन देखेंगे तो आप पाएंगे कि उनका जीवन चुनौतियों से भरा हुआ था। चुनोतियों का सामना  करके ही वह लोग महान बने और समाज के आगे आदर्श बन गए।

ब्रह्माकुमारी हर्षा दीदी आज प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के रायपुर सेवाकेन्द्र द्वारा सोशल मीडिया यू-ट््यूब पर प्रतिदिन शाम को 5.30 से 6.00 बजे प्रसारित होने वाले आनलाईन वेबसीरिज एक नई सोच की ओर में अपने विचार व्यक्त कर रही थीं। विषय था- चुनौतियों का सामना। इस वेबसीरिज का प्रसारण शान्ति सरोवर रायपुर के चैनल पर किया जाता है।

ब्रह्माकुमारी हर्षा दीदी ने आगे कहा कि सबका जीवन चुनौतियों से भरा है। कभी न कभी चुनौति हम सबके जीवन में आती ही है। चुनौतियों से लड़कर ही हम जीवन जीते हैं। जीवन में विषम परिस्थिति न आए ऐसा नहीं हो सकता है। चुनौति आने पर कुछ लोग परेशान हो जाते हैं कि क्या करें? वहीं पर कुछ लोग चुनौति को एक अवसर के रूप में स्वीकार कर उसका सामना करते हैं। ऐसे लोगों को चुनौति खेल की तरह लगने लगती है।

उन्होंने कहा कि चुनौति न हो तो हमारा जीवन नीरस बन जाएगा। विषम परिस्थितियॉ सबके सामने आती हैं। महान आत्माओं का जीवन देखेंगे तो आप पाएंगे कि उनका जीवन चुनौतियों से भरा हुआ था। हमारा देश सैंकड़ों साल गुलाम रहा लेकिन लोगों ने देश को आजाद करने की चुनौति को स्वीकार किया और अपना जीवन तक कुर्बान कर दिया। चुनौतियाँका सामना करके ही वह लोग महान बने। उन्होंने चुनौति को सीढ़ी बना लिया और उँचाइयों पर पहुंच गए। समाज के आगे आदर्श बन गए।

ब्रह्माकुमारी हर्षा दीदी ने कहा कि चुनौतियों को खेल समझकर खेलो तो खुशी मिलेगी। चुनौतियों हमें कुछ सीख देने आती हैं। इसे अपनी परीक्षा समझें। इसमें हमें सफल होना है। हंसते और मुस्कुराते हुए हमें चुनौति रूपी पहाड़ के बीच से अपने लिए रास्ता निकालना है। अपने जीवन को नदी के समान सरल बनाना है। उन्होंने कहा कि ईश्वर को याद करें। वह हमें सुख देने आया है। उनका साथ मिल जाए तो हम कठिन से कठिन परिस्थितियों का सामना कर सकते हैं। अन्त में उन्होंने राजयोग मेडिटेशन के द्वारा परमात्मा के साथ का अनुभव करने का तरीका भी बतलाया।

सबका भला हो, सब सुख पाएं

 सूक्ष्म आत्मा शरीर को कैसे चलाती हैं ? विज्ञान नहीं आध्यात्म के  पास है उत्तर

http://www.raipur.bk.ooo

Check Also

शिव तत्व की उपासना से सामाजिक सद्भावना प्रो.बलदेव शर्मा कुलपति

शिव तत्व की उपासना से होगी सामाजिक सद्भावना… प्रो. बलदेव भाई शर्मा, कुलपति रायपुर, 7 …

Leave a Reply