Tuesday , June 15 2021

WORLD's FASTEST GROWING POSITIVE NEWS PORTAL

Latest
Home / National / Chhattisgarh / स्वर्णिम समाज विकास मे मीडिया की महत्वपुर्ण भुमिका

स्वर्णिम समाज विकास मे मीडिया की महत्वपुर्ण भुमिका

स्वर्णिम समाज विकास मे मीडिया की महत्वपुर्ण भुमिका

अंबिकापुर 25/11/2019- एक अच्छा समाज बनाने के लिए अब समाचारों को बदलने की जरूरत है समाचार एैसे हो जो प्रेरणा दे और लोगो में छिपी हुई अच्छी सकारात्मक मूल्य युक्त धारणा को विकसित करने मे मदद करे। एैसे प्रेरणादायी समाचार लोगो को अच्छे कार्य की ओर प्रवृत्त करेेंगे जिसमें समाचार एक माध्यम है एैसा करने मे पत्रकार महत्वपुर्ण भुमिका निभाते है।
उक्त विचार इंदौर से आये वरिष्ठ पत्रकार पूर्व विभागध्यक्ष माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्व विद्यालय भोपाल, पूर्व सम्पादक नवभारत, इंदौर तथा राजस्थान पत्रिका, जयपुर एवं संपादक मूल्यानुगत मीडिया तथा राजीखुशी इंदौर श्रद्धेय प्रो0 कमल दीक्षित ने अंबिकापुर मे आयोजित स्वर्णिम समाज विकास मे मीडिया की भूमिका कार्यक्रम मे कहा।
उन्होने बताया कि किसी भी घटना की पुरी जानकारी पत्रकार ही देता है और उसका नजरिया उस समाचार को आकार देता है वास्तव में वो चाहे तो अपने नजरिये से उस घटना को एक सकारात्मक दिशा भी दे सकता है यह पत्रकार की संवेदनशीलता पर निर्भर करता है। उन्होने इस बात को विभिन्न उदाहरण के माध्यम से बताया कि कई सारी एैसी भी खबरे आती है जो नकारात्मक होती है पर एक संवेदनशील पत्रकार उसको एक सकारात्मक दिशा देकर उस समाचार को न्याय देता है।
अंबिकापुर सेवाकेंद्र संचालिका विद्या बहन ने बताया कि चारो तरफ नकारात्मकता बढ़ने का मुख्य कारण है हमारे मन की शक्ति कम हो गई है हमारे विचार ही नाकारात्मक होते जा रहे है आवश्यकता है कि अब हम स्व परिवर्तन करे तभी ये संसार को हम परिवर्तन कर सकते है इसका माध्यम है राजयोग की शिक्षा जिसको प्राप्त कर आप अपने विचारो को सकारात्मक बना कर मन को शक्तिशाली बना सकते है।


जेल अधिक्षक राजेन्द्र गायकवाड़ जी ने अपने जीवन की अनुभूतियों से बताया कि समाज मे पत्रकारिता बहुत बड़ी भुमिका निभाता है मै आज जेल अधिक्षक हुँ तो उसका श्रेय पत्रकारिता को जाता है अगर पत्रकार दृढ़ कर ले तो देश को स्वर्णिमता की ओर पहुचाया जा सकता है।
नवभारत ब्युरो चीफ सुधीर पाण्डेय ने सकारात्मकता का समर्थन करते हुए कहा कि सकारात्मक होकर पत्रकारिता की जा सकती है।
कार्यक्रम में पत्रकारो ने आने वाली चुनौतियों को भी बताया जिसका समाधान प्रो0 कमल दीक्षित ने किया जिससे वे सभी संतुष्ट हुए एवं राजयोग को जीवन में अपनाने की स्वीकृति भी दी
ब्र्र. कु. विद्या बहन ने विचारों के माध्यम से सभी को राजयोग मेडिटेशन कराया जिससे सभी आत्म शांति की अनुभूति की।  कार्यक्रम का सफल संचालन ब्र.कु. रूपा बहन ने किया।

करोना की लड़ाई में भारत की जीत का प्रकाश

http://www.bbcworld.com

Check Also

क्षमता और इच्छाशक्ति की मजबूती के लिए राजयोग मेडिटेशन उपयोगी

अपनी क्षमता और इच्छाशक्ति को मजबूत रखने के लिए राजयोग मेडिटेशन बहुत उपयोगी है Newsanant …

Leave a Reply